जालंधर(विनोद बिंटा)-जालंधर भाजपा नेता शीतल, राजन और उसके साथियों को जालंधर कोर्ट से आज राहत मिल गई है, कई दिनों से भाजपा नेता शीतल और राजन को लेकर महानगर में राजनीति गरमाई हुई थी। चर्चा इस बात की भी थी कि राजनीतिक दबाव के चलते शीतल, राजन और उसके साथियों पर संगीन धाराओं के तहत कार्रवाई करवा कर मामला दर्ज किया है। शिकायतकर्ता करण जिसकी आयु 15 वर्ष के करीब बताई गई थी और अदालत में करन और उसकी मां का बयान भी दर्ज करवाया गया था। करण के केस की पैरवाही ओर कई वकील भी कर रहे थे। जिनका महानगर में पूरा नाम है। शीतल, राजन और उसके साथियों के केस की पैरवाही एडवोकेट आर.के भल्ला कर रहे थे। जालंधर अदालत में जमानत करवाने को लेकर 28 मई की तिथि पड़ी थी। जिसके चलते आज माननीय अदालत ने इन सभी को बेल दे दी। भाजपा नेता शीतल, राजन और उसके साथियों की राहत मिलने के बाद महानगर की राजनीतिक में एक अलग चर्चे का विषय बना है। जिस तरह इन लोगों के खिलाफ इतनी संगीन धाराओं के तहत मामला दर्ज हुआ था, किसी को भी यह अंदाजा नहीं था कि इन लोगों को जालंधर कोर्ट से जमानत मिल सकती है। लेकिन फिर भी माननीय अदालत ने इस केस के कई पहलुओं की जांच के बाद इन सभी को राहत दे दी है। वहीं पुलिस को कटघरे में खड़ा किया है और इस मामले में इन लोगों को राहत मिलने के कारण कई राजनीतिक लोगों को बड़ा झटका लगा है। गौरतलब है कि कुछ दिन पहले करण नामक युवक जो कि लंबे समय से अपने घर के हालातों के कारण उनके दफ्तर में काम करता था, राजन करण को कहता था कि अगर स्कूल में पढ़ाई करना चाहता है तो उसके खर्चे के साथ-साथ वह उसके स्कूल की पढ़ाई का भी खर्चा उठाएंगे। लेकिन कुछ समय बाद मामला यह सामने आया कि भाजपा नेता शीतल ने फेसबुक पर लाइव होकर इस बात का खुलासा किया कि करण नामक युवक जो उनके पास काम करता है, वह उनके लिए और उनके परिवार के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। शीतल ने इस बात का भी दावा किया था कि करण के माध्यम से उनके परिवार वालों को जहर देकर मरवाया भी जा सकता है। लेकिन उसके बाद माहौल ऐसा बदला की शीतल ने लाइव होकर जो बात लोगों के सामने रखी उसी पर करण का कुछ दिन बाद बयान आया कि राजन, शीतल और उसके साथियों ने उसे पहले बंधक बनाया, फिर उसे गाड़ी में उठाकर मुकेरियां ले गए। जिसके चलते थाना पांच में शीतल, राजन और उसके साथियों के खिलाफ संगीन धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया गया और वह सभी भूमिगत हो गए। उसके बाद करन की मां ने एक ऐसा खुलासा किया कि उसके बेटे करन को विधायक और उसके कुछ लोगों ने गायब करके रखा हुआ है। अगर उसका बेटा शाम तक वापस घर नहीं लौटा तो वह अपने परिवार सहित आत्महत्या कर लेंगे। लेकिन कुछ समय बाद करन सही सलामत अपने घर वापस लौट आया। जब करन घर वापस लौटा तो करण की मां ने सोशल मीडिया के माध्यम से यह बयान जारी किया कि उसकी किसी के साथ कोई भी दुश्मनी नहीं है ना तो उसे विधायक से कुछ लेना है और ना ही उन्हें शीतल, राजन से कुछ लेना है, वह और उसका बेटा अपने घर में सही सलामत रहना चाहते हैं, उनका किसी से कोई लेन-देन नहीं है कुछ दिन तक ऐसा ही चलता रहा कभी करण की मां राजन और शीतल के हक में ध्यान दे रही थी और कभी उनके खिलाफ। आज इन सभी को राहत मिल गई है अब राजनीति और गर्माएगी।

Stock Market Updates

Jalandhar News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *