लॉकडाउन से पहले काउंटी क्रिकेट में पाए गए थे कोरोना वायरस के 17 केस, अब हुआ है खुलासा

इंग्लैंड में 8 जुलाई से इंटरनेशनल क्रिकेट की वापसी हो रही है. लेकिन कोरोना के खतरे को देखते हुए खिलाड़ियों के पॉजिटिव पाए जाने को लेकर चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आई है.

इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड ने देश में खेल को पटरी पर लाने की कोशिशें और तेज कर दी हैं. इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच टेस्ट सीरीज से इंटरनेशनल क्रिकेट की वापसी होने जा रही है. इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड ने संकेत दिए हैं कि एक अगस्त से काउंटी क्रिकेट की भी वापसी होगी. लेकिन उससे पहले एक हैरान करने वाली रिपोर्ट सामने आई है. रिपोर्ट्स के मुताबिक मार्च में लॉकडाउन लगने से पहले काउंटी टीमों में कोरोना वायरस के 17 केस सामने आए थे.

डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक 13 खिलाड़ी और चार सपोर्ट स्टाफ के कोरोना टेस्ट पॉजिटिव पाए गए थे. हालांकि दावा किया जा रहा है कि ये खिलाड़ी ट्रेनिंग के दौरान कोरोना वायरस के इनफेक्टिड नहीं हुए थे, बल्कि उसका सोर्स कोई बाहरी था.

हालांकि अब इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड ने खिलाड़ियों के 700 से ज्यादा टेस्ट किए हैं और उनकी सभी रिपोर्ट नेगेटिव आई है. इसके बाद 1 अगस्त से काउंटी क्रिकेट की वापसी के आसार काफी बढ़ गए हैं. इंग्लैंड के पूर्व दिग्गज ऑलराउंडर इयान बॉथम का मानना है कि इंग्लैंड में सभी खेलों की वाnपसी जल्द ही हो जाएगी.

जुलाई में होगी इंटरनेशनल क्रिकेट की वापसी

इंग्लैंड के साथ तीन मैचों की सीरीज खेलने के लिए वेस्टइंडीज की टीम एक महीना पहले ही मेजबान टीम की धरती पर पहुंच गई थी. 14 दिन क्वारंटीन रहने के बाद वेस्टइंडीज के खिलाड़ियों ने 23 जून से मैदान पर प्रैक्टिस शुरू कर दी थी. 8 जुलाई से दोनों देशों के बीच पहला टेस्ट खेला जाएगा.

वेस्टइंडीज के बाद इंग्लैंड को पाकिस्तान के साथ तीन टेस्ट और तीन ट्वेंटी-ट्वेंटी मैचों की सीरीज खेलनी है. पाकिस्तान के 20 खिलाड़ी इस सीरीज के लिए सोमवार को ही इंग्लैंड पहुंच गए. पाकिस्तान और इंग्लैंड के बीच पहला टेस्ट मैच 30 जुलाई को खेला जाएगा. हालांकि कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए दोनों सीरीज का आयोजन मैदान पर बिना दर्शकों के ही हो रहा है.

Related posts

Leave a Comment