चंडीगढ़:- लगभग दो माह से पंजाब में और अब राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की चौखट तक पहुंच चुके नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन को मिल रहे समर्थन का दायरा लगातार बढ़ता जा रहा है। कैनेडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने भी किसान आंदोलन को समर्थन का ऐलान किया है। हालांकि उनके समर्थन को भारत सरकार ने गैर-जरूरी करार दिया। विदेशों में आंदोलन की चर्चा से न सिर्फ किसान संगठनों को हौसला मिला है, बल्कि ग्लोबल हो रहे इस प्रोटैस्ट को देख युवाओं की भागीदारी भी बढ़ रही है। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में शुरू हुए शांतिमय किसान आंदोलन की चर्चा न सिर्फ एशिया पैसीफिक, बल्कि सात समंदर पार अमरीकी महाद्वीप के देशों में भी छिड़ी हुई है। कैनेडा के शहरों वैंकूवर, सरी, टोरांटो, ओटवा और अमरीकी राज्यों, जिनमें कैलीफोर्निया से लेकर न्यूयॉर्क तक शामिल हैं, आंदोलनकारी किसानों के समर्थन में प्रदर्शन और कार रैलियां हो रही हैं। ऑस्ट्रेलियन महाद्वीप पर भी भारत में प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में लोगों ने प्रोटैस्ट रैलियों का आयोजन किया है।उधर, पड़ोसी देश पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी किसान आंदोलन का समर्थन किया जिस पर भारत ने कड़ी प्रतिक्रिया दी। किसान आंदोलन के समर्थन में जिन देशों में प्रदर्शन हो रहे हैं, वह वही देश हैं, जहां पर पंजाबी मूल के लोगों की आबादी अच्छी-खासी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *