नई दिल्ली : इंडियन मैडीकल एसोसिएशन पंजाब के प्रधान डा. नवजोत ङ्क्षसह दहिया को इंडियन मैडीकल एसोसिएशन का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चुना गया है। डा. दहिया की इस उपलब्धि पर उन्हें चिकित्सा के क्षेत्र से जुड़ी विभिन्न शख्सियतों द्वारा शुभकामनाएं दी गईं। उल्लेखनीय है कि माजसेवा के पुंज के रूप में विख्यात डा. नवजोत सिंह दहिया चिकित्सा के क्षेत्र में अपनी एक अलग पहचान बनाए हुए हैं। गरीब लोगों की मदद करना उनका रोज़मर्रा का काम है। डा. नवजोत सिंह दहिया ने 1995 गवर्नमैंट मैडीकल कॉलेज अमृतसर से एम.बी.बी.एस. करने के उपरांत जि़ला लुधियाना में स्थित रूरल हैल्थ सैंटर पोहिर में मैडीकल ऑफिसर के रूप में अपनी सेवा शुरू की। अपने करियर के विभिन्न पड़ावों के तहत उन्होंने डी.एम.सी1 एंड एच. में ऑर्थोपैडिक्स विभाग में बतौर रजिस्ट्रार के रूप में नियुक्त हुए तथा उन्होंने यहां से 2001 में एम.एस. ऑर्थोपैडिक्स पूरी करने के बाद जालन्धर में बतौर कांसलंटिग ऑर्थोपैडिक्स सर्जन के रूप में प्रैक्टिस शुरू की। इसके बाद उन्होंने फैलोशिप के माध्यम से रेजेंसबर्ग जर्मनी तथा चिकित्सा के क्षेत्र में और अधिक अग्रणी होने के लिए उन्होंने यूनिवॢसटी ऑफ न्यूयार्क ऑर्थोपैडिक्स में एम.सी.एच. की डिग्री प्राप्त की। इसके उपरांत डा. दहिया ने भविष्य के डाक्टरों को प्रतिभाशाली बनाने का बीड़ा उठाया तथा वह मैडीकल स्टूडैंट्स एसोसिएशन पंजाब के संस्थापक अध्यक्ष भी रहे हैं। इस दौरान उन्होंने विद्याॢथयों के अधिकारों व अन्य कई तरह की मांगों को प्रमुखता से उठाया और उनका हल भी करवाया। दि मैडीकल कमीशन की ओर से उन्हें 90 उत्कृष्ट एवं कार्यशील नेताओं में शामिल किया। डा. दहिया ने इंडियन मैडीकल एसोसिएशन में एक सदस्य के रूप में 1996 को ज्वाइन किया तथा उन्होंने बतौर सदस्य के रूप में एसोसिएशन के लिए हमेशा ही अग्रणी होकर कार्य किया। उन्होंने अनेकों पदों पर कार्य किया तथा उनकी इस उपलब्धि को देखते हुए उन्हें 2000 में इंडियन मैडीकल एसोसिएशन जालन्धर शाखा का सहायक सचिव नियुक्त किया गया तथा जिसके बाद वह शाखा के सचिव बने। इंडियन मैडीकल एसोसिएशन जालन्धर शाखा का अध्यक्ष बनने के उपरांत उन्हें इंडियन मैडीकल एसोसिएशन पंजाब का सचिव नियुक्त किया गया। 2020 में उन्हें इंडियन मैडीकल एसोसिएशन पंजाब का अध्यक्ष नियुक्त किया। अब वह इस पद पर रहते हुए डाक्टरों के अधिकारों व उनकी सुरक्षा हेतु पूरी तनदेही के साथ कार्य कर रहे हैं तथा साथ ही क्लीनिकल इस्टाब्लिशमैंट एक्ट के विरुद्ध भी आवाज़ बुलंद कर रहे हैं। इसके अलावा उन्होंने मैडीकल प्रोफैशनल से जुड़े अङ्क्षहसा के केसों हेतु वैबसाइट एवं हैल्पलाइन भी शुरू की गई है।
डा. नवजोत सिंह दहिया की पत्नी डा. जैसमीन कौर भी नोवा आई.वी.एफ. फर्टीलिटी क्लीनिक की डायरैक्टर हैं जबकि उनका बेटा डा. तनवीर ङ्क्षसह दहिया ने एम.बी.बी.एस. हैं और आई.एम.ए. जे.डी.एन. के स्टेट को-आर्डीनेटर हैं। उनकी बेटी जसरूप कौर, भी अपने माता-पिता के पदचिन्हों पर चलते हुए एम.बी.बी.एस. प्रथम वर्ष की छात्रा हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *