जालंधर में मौजूदा समय वैक्सीन की 12.5 लाख ख़ुराकों का भंडारन करने की जगह, और बढाई जायेगी जगह: डीसी घनश्याम थोरी

जालंधर- फ्रंटलाईन वर्करों के लिए एक बार उपलब्ध होने के बाद कोविड -19 वैक्सीन सुरक्षित ढंग से लगाने के लिए ज़िला प्रशासन ने कमर कस ली है और कोविड -19 वैक्सीन के भंडारन, बाँट और टीकाकरण के लिए अपनी मशीनरी तैयार कर ली है।प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य और परिवार भलाई हुसन लाल के साथ शुक्रवार को एक वीडियो कान्फ़्रैंस में हिस्सा लेते हुए डिप्टी कमिश्नर घनश्याम थोरी ने कहा कि प्रशासन ने कोल्ड चेन भंडारन सामर्थ्य के पहले ही व्यापक प्रबंध किये हुए हैं, जिसमें मौजूदा समय कोविड वैक्सीन की 12.5 लाख ख़ुराकों को स्टोर करने के लिए अपेक्षित जगह है और जब वैक्सीन आम लोगों के लिए उपलब्ध होगी, इसकी जगह को और अधिक बढाया जायेगा। इस अवसर पर उनके साथ अतिरिक्त डिप्टी कमिशनर (डी) विशेष सारंगल भी मौजूद थे।
उन्होनें कहा कि जिले में अपनी कोल्ड चेन भंडारन सुविधा अधीन 62 आईस लाईनड रैफिजरेटर (आईएलआर) हैं, जो 5739 लीटर भंडार कर सकते हैं और एक आईएलआर 217 भंडार कर सकता है। इस तरह हमारे पास यहाँ 12.4 लाख ख़ुराकों को भंडारन करने के लिए अपेक्षित जगह है।
डिप्टी कमिश्नर ने आगे बताया कि प्रशासन की तरफ से 57 कोल्ड चेन स्थानों की पहचान भी की है, जिनमें से 16 शहरी और 41 ग्रामीण क्षेत्रों में हैं और प्रशिक्षण प्राप्त स्टाफ की तरफ से प्रभावशाली ढंग के साथ इसका प्रबंधन किया जा रहा है।उन्होनें कहा कि जिले में मौजूदा समय 1057 वैक्सीन कैरियर हैं और वैक्सीन वैन हैं जो काम करने की स्थिति में हैं। इसके इलावा सभी सीएचसी, पीएचसी / एसडीएच और सिविल अस्पतालो की सैशन स्थानों के तौर पर पहचान की गई है और प्राईवेट स्वास्थ्य संस्थायों की पहचान की जा रही है। उन्होनें कहा कि कुल 46 स्वास्थ्य टीमों का गठन भी किया गया है और विभाग को इनकी संख्या बढ़ाने के आदेश दिए गए हैं।घनश्याम थोरी ने बताया कि सरकार के आदेशों अनुसार वैक्सीन की पहली ख़ुराक डाक्टरों, नर्सिंग और लैब स्टाफ, वार्ड अटैंडैंट और आंगणवाड़ी वरकरों और हैलपरों सहित समूह फ्रंट लाईन स्वास्थ्य वरकरों को दी जायेगी और 10844 वर्करों का डाटा पहले ही अपलोड कर दिया गया है।
डीसी ने आगे बताया कि ब्लाक स्तरीय टास्क फोर्स का गठन भी किया गया है और विभागों के प्रमुखों की तरफ से नियमित तौर पर बैठक की जा रही है।डाक्टरों / नर्सिंग और लैब स्टाफ /वार्ड अटैंडैंट / और स्वास्थ्य कर्मचारियों को ‘वर्दी से बिना सिपाही’ कहते हुए डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि प्रशासन पिछले 8 महीनों से महामारी से लड़ रहे फ्रंट लाईन स्वास्थ्य वर्करों के टीकाकरण को पहल देने को यकीनी बनाने में कोई कमी बाकी नहीं छोडेगा।इस अवसर पर सिविल सर्जन डा. गुरिन्दर कौर चावला, ज़िला टीकाकरण अधिकारी डा. सीमा, डीएमसी डा. अनू, ज़िला एपीडैमीओलोजिस्ट डा. सतीश और अन्य उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *