नई दिल्ली : पिछले कुछ दिनों से व्हाट्सएप की पॉलिसी को लेकर भारत समेत दुनियाभर में इस पर बहस छिड़ी हुई है। साथ ही व्हाट्सएप की पॉलिसी की आलोचना भी हो रही है। दरअसल व्हाट्सएप पर फेसबुक का पूर्ण स्वामित्व है, यानि कि Whatsapp का मालिक अब फेसबुक है। नई पॉलिसी के मुताबिक व्हाट्सएप अब अपने यूजर्स का पूरा डाटा फेसबुक के साथ शेयर करेगा, मतलब सीधा है कि व्हाट्सएप यूजर्स का सारा डाटा अब फेसबुक के पास होगा। ऐसे में कई सवाल खड़े हो रहा है कि क्या इससे राष्ट्रीय सुरक्षा पर भी असर पड़ेगा। व्हाट्सएप अपने यूजर्स का कौन-सा डाटा फेसबुक के साथ शेयर करने वाला है। इंस्टैंट मैसेजिंग सेवा प्रदाता व्हाट्सएप की तरफ से इन दिनों अपने यूजर्स के फोन पर एक मैसेज आ रहा है जिसमें लिखा है कि व्हाट्सएप अपनी शर्तों और प्राइवेसी पॉलिसी को अपडेट कर रहा है। इस पूरे मैसेज में लिखा गया है कि व्हाट्सएप की सर्विस, डेटा को प्रोसेस करने, फेसबुक की अन्य सर्विस के व्हाट्सएप चैट को स्टोर व मैनेज करने और व्हाट्सएप फेसबुक के साथ मिलकर किस प्रकार फेसबुक कंपनी के प्रोडक्ट्स के बीच इंटीग्रेशन करेगा, इस बारे में ज्यादा जानकारी दी गई है। इसमें आगे लिखा है, ‘AGREE पर टैप करके आप 8 फरवरी 2021 से लागू होने वाली नई शर्तों और प्राइवेसी पॉलिसी को स्वीकार कर रहे हैं। साथ में ऑपशन नॉट नाउ है यानि कि कुछ समय के लिए आप इस पॉलिसी को इग्नोर कर सकते हैं लेकिन 8 फरवरी के बाद नहीं। अगर आपको व्हाट्सएप की पॉलिसी मंजूर नहीं है तो इस ऐप को या तो डिलीट कर दे या फिर कंपनी की तरफ से इसे बंद कर दिया जाएगा।व्हाट्सएप की नई पॉलिसी से क्या राष्ट्रीय सुरक्षा भी खतरे में पड़ सकती है, यह बहुत बड़ा सवाल है। दुनियाभर में 2 अरब यूजर्स हैं जो व्हाट्सएप का इस्तेमाल करते हैं और इसमें से 40 करोड़ यूजर्स सिर्फ भारत में ही हैं। इन यूजर्स में कई सरकारी अधिकारी भी शामिल होंगे। कई कॉनफिडेनशिअल डोकमेंट्स का या फिर जानकारी का आदान-प्रदान अधिकारियों के बीच होता है। हालांकि हम इस बात का दावा नहीं कर रहे हैं कि सरकारी अधिकारी व्हाट्सएप पर गुप्त जानकारी शेयर करते होंगे लेकिन यह लोगों के दिमाग में चल रहा एक सवाल मात्र है।

Jalandhar News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *