नई दिल्ली- केन्द्र सरकार से बातचीत करने के लिए विज्ञान भवन पहुँचे किसानों के लिए आज दिल्ली सिख गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष स. मनजिंदर सिंह सिरसा स्वंय लंगर लेकर विज्ञान भवन पहुँचे।इस मौके पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए स. सिरसा ने कहा कि दिल्ली सिख गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी जो कि दिल्ली के सिखों द्वारा चुनी हुई संस्था है वह किसानों के साथ कंधे से कंधा मिला कर खड़ी है और हमेशा डट कर खड़ी रहेगी। हमारा मकसद है कि हमारे किसान भाईयों की जीत हो।सवालों के जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि पहले की मीटिंग इसलिए बेनतीजा रहीं क्योंकि सरकार ने अड़ियल रवैया अपनाया हुआ था। सरकार पहले ही डर गई है जो समझ गई है कि किसान आंदोलन की बात पूरी दुनिया में चली गई है। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन में वह लोग पहुँच गए हैं जो कभी सरकार ने कल्पना भी नहीं की थी।स. सिरसा ने कहा कि जो कानून सरकार ने बनाए हैं वह वास्तव में पूंजीपतियों ने बनवाये हैं और इन पूंजीपतियों ने कानून आने से पहले ही तैयारी कर ली थी। उन्होंने कहा कि किसानों ने ना तो यह कानून मांगे थे और ना ही यह किसानों को मान्य हैं।एक अन्य सवाल के जवाब में स. सिरसा ने कहा कि पंजाबियों खासतौर पर सिखों ने हमेशा आगे बढ़ कर देश की लड़ाई लड़ी है चाहे वह आज़ादी की लड़ाई हो या देश की सरहदों की रक्षा की बात हो। उन्होंने कहा कि जो हमें खालिस्तानी कहते हैं वह स्वंय ही देश प्रस्त नहीं हैं वास्तव में यह सब हथकंडे किसानों के आंदोलन को कमज़ोर करने के लिए अपनाए गए जो औंधे मुंह गिरे हैं।उन्होंने कहा कि जब देश भूखा मर रहा था तो पंजाबी किसानों ने ही देश को अनाज में आत्मनिर्भर बनाया था लाकडाउन में लंगर लगाने के लिए जो सिख देवते थे उन्हें ही आज दैंत बताया जा रहा है। सिख तो हर सुबह सरबत के भले की अरदास करता है और अगर उन्हें कोई देश विरोधी बताए तो ऐसे लोगों पर लानत है।उत्तराखंड पुलिस द्वारा किसानों को परेशान किए जाने के बारे में एक अन्य सवाल के जवाब में स. सिरसा ने बताया कि वहां की पुलिस दिल्ली आए किसानों के घर पर छापेमारी कर रही है और हमारे वकील सतनाम सिंह के घर सुबह पुलिस ने छापा मारा था। उन्होंने कहा कि आई.जी को स्पष्ट कह दिया है कि अगर हमारे किसान भाईयों को परेशान किया तो हम पुनः यहां आने के लिए मजबूर होंगे और सरकार व पुलिस के खिलाफ संघर्ष करेंगे। लोकतंत्र में संघर्ष करने हमारा अधिकार है और अगर इससे रोका गया तो इसका मतलब यह है कि गौरों की तरह ही अत्याचार किया जा रहा है।

Crime News

Jalandhar News

नशा मुद्दा- भार्गव कैंप में इस युवक ने किस किस को डाला परेशानी में देखें, Share Video

बस्ती दानिशमंदा श्मशान घाट में तोड़ा पुराना शिव मंदिर विरोध दल बल के साथ पहुंची पुलिस ( Share VIdeo )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *